टूट गया

आज अश्कों का तार टूट गया
रिश्ता-ए-इंतज़ार टूट गया

यूँ वो ठुकरा के चल दिए गोया
इक खिलौना था प्यार टूट गया

रोए रह-रह कर हिचकियाँ लेकर
साज़-ए-गम बार बार टूट गया

‘सैफ’ क्या चार दिन कि रंजिश से
इतनी मुद्दत का प्यार टूट गया

– सैफुद्दीन सैफ

2 thoughts on “टूट गया

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s