छलकना छोङ दे

बहुत पहले लिखा था ये शेर, आज भी दिल के बहुत करीब है…..!

तेरी हर बात मानी है हमने,
अब ये ना कहना ऐ दिल धङकना छोङ दे |
दिल है तो धङकेगा,
दर्द होगा,
आँसू भी होंगे,
आँखों से ना कहना छलकना छोङ दे….!

– गौरव संगतानी

2 thoughts on “छलकना छोङ दे

  1. अच्छा है. बकौल ग़ालिब :
    दिल ही तो है न संग-ओ-खिश्त, दर्द से भर न आये क्यों
    रोयेंगे हम हज़ार बार, कोई हमें सताए क्यों

    Like

Leave a Reply to mehhekk Cancel reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s