शाम होते ही चरागों को बुझा देता हूँ मैं,
इक दिल ही काफी है तेरी याद में जल जाने के लिए |

-अग्यात

 

2 Responses to शाम

  1. c/अग्यात/अज्ञात

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *