तेरी याद में

You may also like...

1 Response

  1. टूटा तो बहुत कुछ इस आसमां की झोली से |
    इन पत्थरों में लेकिन कोई सितारा नहीं मिलता..

    बहुत सुन्दर रचना हैं,
    बधाई स्वीकार करें ..
    सादर
    हेम

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *