कभी यूँ ही लिखा था कुछ तेरी याद मे, तेरी याद आयी तो फिर से गुनगुना दिया आज….

“दर्द की इंतहाँ हो गयी है यारों |
सुबह चले थे अब शाम हो गयी है यारों |
थक गयें हैं लेकिन कोई सहारा नहीं मिलता |
समंदर में मौजों को किनारा नहीं मिलता |
टूटा तो बहुत कुछ इस आसमां की झोली से |
इन पत्थरों में लेकिन कोई सितारा नहीं मिलता…”

बस यूँ ही….

– गौरव संगतानी

 

One Response to तेरी याद में

  1. टूटा तो बहुत कुछ इस आसमां की झोली से |
    इन पत्थरों में लेकिन कोई सितारा नहीं मिलता..

    बहुत सुन्दर रचना हैं,
    बधाई स्वीकार करें ..
    सादर
    हेम

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *