खुद में उलझ के रह गयी, ये जिंदगी की दास्ताँ..
कोई ओर नहीं कोई छोर नहीं, न संग कोई कारवां….

– गौरव संगतानी

 

2 Responses to जिंदगी की दास्ताँ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *