कैसे कह दूं कि तेरी याद नही आती है,

मेरी हर सांस मे बस तू ही महकाती है.

आज भी रातों को जब चौंक के उठता हूँ,

बस तू ही नही, हर शह तो नज़र आती है..!

– गौरव संगतानी 

 

7 Responses to कैसे कह दूं….!!!

  1. भाव और विचार के श्रेष्ठ समन्वय से अभिव्यक्ति प्रखर हो गई है । विषय का विवेचन अच्छा किया है । भाषिक पक्ष भी बेहतर है । बहुत अच्छा लिखा है आपने ।
    मैने अपने ब्लाग पर एक लेख लिखा है-आत्मविश्वास के सहारे जीतें जिंदगी की जंग-समय हो तो पढें और कमेंट भी दें-

    http://www.ashokvichar.blogspot.com

  2. paramjitbali says:

    बहुत बढिया!!

  3. अशोक जी धन्यवाद आपके कॉमेंट और उत्साह वर्धन के लिए…. आपका ब्लॉग भी पड़ा… काफ़ी अच्छा लगा…

    परम जीत जी आपका भी धन्यवाद…. इसी तरह आपका स्नेह मिलता रहे…

  4. बहुत सुंदर….

  5. Good one Gaurav…
    Keep writing…

    Kabhi yahan bhi aaiyega…

    http://tanhaaiyan.blogspot.com

  6. ankurgarg says:

    Nice Boss
    Kaun है wo jo रातों को pareshan kar rahi है……….

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *